मैथिली गीत सच्चिदानन्द पाठक

कोहबर में देखलौं जखने कनियाँ

कोहबर में देखलौं जखने कनियाँ लीरिक्स कोहबर में देखलौं जखने कनियाँ, धेलौं पेटकुनियाँ,कोहबर में देखलौं जखने कनियाँ, धेलौं पेटकुनियाँ,कोहबर में देखलौं जखने कनियाँ, धेलौं पेटकुनियाँ,कोहबर में देखलौं जखने कनियाँ, धेलौं पेटकुनियाँ….. बाबूजी लेलनि टाका, अपने घर देलनि डाका,घिनमा घिन एत्ते भेलै, हल्ला भेल सौंसे इलाका,बाबूजी लेलनि टाका, अपने घर देलनि डाका,घिनमा घिन एत्ते भेलै, हल्ला […]

मैथिली गीत मैथिली पारंपरिक गीत

एहेन सुंदर मिथिला धाम

एहेन सुंदर मिथिला धाम लीरिक्स एहेन सुंदर मिथिला धाम,एहेन सुंदर मिथिला धाम,दोसर पायब कोन ठाम,दोसर पायब कोन ठाम,दुल्हा-दुल्हिन सीता राम जनकपुर में,दुल्हा-दुल्हिन सीता राम जनकपुर में,एहेन सुंदर मिथिला धाम,एहेन सुंदर मिथिला धाम,दोसर पायब कोन ठाम,दोसर पायब कोन ठाम,दुल्हा-दुल्हिन सीता राम जनकपुर में,दुल्हा-दुल्हिन सीता राम जनकपुर में….. हम ने करबै ककरो आश,हम ने करबै ककरो आश,जखन […]

मैथिली गीत मैथिली पारंपरिक गीत

धन धन राज अयोध्या

धन धन राज अयोध्या धन्य राजा दशरथ रे लीरिक्स धन धन राज अयोध्या धन्य राजा दशरथ रे,धन रे कौशल्या के भाग कि राम जनम लेल रे, देखथि पण्डित पुरोहित पोथी कर लेने रे,ललना रे बालक होयत सगेआन वनहि सिधारत रे, से सुनि रानी विकल भेली राजा मुरक्षित भेल रे,ललना रे राम जनम लेल जौं वन […]

मैथिली पारंपरिक गीत विवाह गीत

जाहि दिन आहे बाबू तोरो जनम भेल

जाहि दिन आहे बाबू तोरो जनम भेल लीरिक्स जाहि दिन आहे बाबू तोरो जनम भेल,अन्न पानि किछू ने सोहाय हे, सेहो बाबू चलला गौरी विआहन,दुधबाक दाम दहू ने चुकाय हे, दूधक दाम अम्मा सैधियो ने सकै छ,पोसाइक दाम दै देब हे, जाबत जीबऽ अम्मा सैधियो ने सकै छ,धनी हेती नौरी तोहार हे, नित दिन आहे […]

मूड़न गीत मैथिली पारंपरिक गीत

मूड़न गीत (सम्पूर्ण विधि गीत)

गोसाउनि नोतक गीत :- बट्टा भरि चानन रगड़ल पाने पत्र लिखल हे,ताहि पान नोतब गोसाउनि जे नित पूजि थिकि हे, बट्टा भरि चानन रगड़ल पाने पत्र लिखल हे,ताहि पान नोतब पितर लोक जे निज आशिष देथि हे, बट्टा भरि चानन रगड़ल पाने पत्र लिखल हे,ताहि पान नोतब कुटुम्ब लोक जाहि सँऽ सोहावन लागू हे, बट्टा […]

भगवती गीत मैथिली पारंपरिक गीत

सबहक सुधि आहाँ लै छी हे अम्बे

सबहक सुधि आहाँ लै छी हे अम्बे लीरिक्स सबहक सुधि आहाँ लै छी हे अम्बे, हमरा कियै बिसरै छी हे,सबहक सुधि आहाँ लै छी हे अम्बे, हमरा कियै बिसरै छी हे,हमरा कियै बिसरै छी हे मैया,हमरा कियै बिसरै छी हे,सबहक सुधि आहाँ लै छी हे अम्बे, हमरा कियै बिसरै छी हे….. आनि गंगाजल पिड़िया निपै […]

भगवती गीत मैथिली पारंपरिक गीत

सिंह पर एक कमल राजित

सिंह पर एक कमल राजित लीरिक्स सिंह पर एक कमल राजित ताहि ऊपर भगवती,सिंह पर एक कमल राजित ताहि ऊपर भगवती….. शंख गहि गहि चक्र गहि गहि, लोक के माँ पालती,शंख गहि गहि चक्र गहि गहि, लोक के माँ पालती,सिंह पर एक कमल राजित ताहि ऊपर भगवती….. दाँत खट खट जीह लह लह, सोणित दाँत […]

भगवती गीत मैथिली पारंपरिक गीत

हे भवानी दुःख हरू माँ पुत्र अपन जानि के

हे भवानी दुःख हरू माँ लीरिक्स हे भवानी दुःख हरू माँ पुत्र अपन जानि के,दय रहल छी दुःख भारी बीच भँवर मे आनि के,हे भवानी दुःख हरू माँ पुत्र अपन जानि के….. आबि आशा में पड़ल छी की करू हम कानि के,विश्वमाता छी आहाँ माँ आहाँ से हम मानि के,हे भवानी दुःख हरू माँ पुत्र […]

मैथिली गीत सुरेश पंकज

खो रे मंगला पड़ल रह

खो रे मंगला पड़ल रह लीरिक्स माटी नै लागे तन में देखिहैं, सोना सनक जुआनी,बात सगुन के चलि रहल छौ, छटा के रखिहैं कानी,बाबा हाथ में होरक लागन, तू तकिया लै अड़ल रह,खो रे मंगला पड़ल रह, खो मंगला पड़ल रह,खो रे मंगला पड़ल रह, खो मंगला पड़ल रह,माटी नै लागे तन में देखिहैं, सोना […]

मैथिली गीत सुरेश पंकज

आब कहू मन केहेन करैये

आब कहू मन केहेन करैये लिरिक्स धनि दरभंगा दोहरी अंगा, कियैक नाच नचै छी नंगा,धनि दरभंगा दोहरी अंगा, कियैक नाच नचै छी नंगा,टुकुर टुकुर सब लोक तकैये,आब कहू मन केहेन करैये, आब कहू मन केहेन करैये,आब कहू मन केहेन करैये, आब कहू मन केहेन करैये,धनि दरभंगा दोहरी अंगा, कियैक नाच नचै छी नंगा,टुकुर टुकुर सब […]