अरविंद सिंह

बाबा हो बाबा की लिखलऽ कपार में

बाबा हो बाबा की लिखलऽ कपार में लिरिक्स सहब कतेक दुःख हम संसार में,सहब कतेक दुःख हम संसार में,बाबा हो बाबा की लिखलऽ कपार में,बाबा हो बाबा की लिखलऽ कपार में,डुबि जेतै दुनिया हमर नोरक धार में,डुबि जेतै दुनिया हमर नोरक धार में,बाबा हो बाबा की लिखलऽ कपार में,बाबा हो बाबा की लिखलऽ कपार में, […]

अरविंद सिंह मैथिली गीत

श्यामा गजब शहर दरभंगा – अरविन्द सिंह

श्यामा गजब शहर दरभंगा लिरिक्स श्यामा गजब शहर दरभंगा, जाहि में आहाँ बिराजी ना,हे श्यामा गजब शहर दरभंगा, जाहि में आहाँ बिराजी ना,हे मैया आहाँ बिराजी ना,हे श्यामा आहाँ बिराजी ना,श्यामा गजब शहर दरभंगा, जाहि में आहाँ बिराजी ना, बीच राज में मंदिर चमकै,धूप गुगुल सँऽ अंगना गमकै,हाँ बीच राज में मंदिर चमकै,धूप गुगुल सँऽ […]